97 फीसदी तक पहुंची शिक्षा, 98 प्रतिशत छात्र ले रहे हैं ऑनलाइन क्लास - bhaskarhindi.com - Today Quizzes

97 फीसदी तक पहुंची शिक्षा, 98 प्रतिशत छात्र ले रहे हैं ऑनलाइन क्लास – bhaskarhindi.com



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोनाकाल में स्कूलों के बंद होने के बावजूद स्टूडेंट्स की लर्निंग न रुके और उन्हें क्वालिटी एजुकेशन मिलती रहे इसके लिए कई महत्वपूर्ण उपाय किए जा रहे हैं। दिल्ली के शिक्षा निदेशालय के मुताबिक स्कूलों द्वारा आयोजित की गई ऑनलाइन क्लासेज में कक्षा 11वीं के 98.2 व 12वीं के 98.6 प्रतिशत विद्यार्थी भाग ले रहे हैं। दिल्ली के शिक्षा निदेशालय का कहना है कि ऑनलाइन व ऑफलाइन माध्यम के द्वारा केजी से दूसरी क्लास के 99.2 प्रतिशत, तीसरी से पांचवी के 99.1 प्रतिशत, छठी के 94.21 प्रतिशत, सातवीं के 97.2 प्रतिशत, आठवीं के 98 प्रतिशत, 9वीं के 98.7 प्रतिशत और 10वी के 98.4 प्रतिशत विद्यार्थियों तक शिक्षा निदेशालय द्वारा भेजी गई वर्कशीट पहुंच रही है। साथ ही स्कूलों द्वारा आयोजित की गई ऑनलाइन क्लासेज में कक्षा 11वीं के 98.2 प्रतिशत व 12वीं के 98.6 प्रतिशत विद्यार्थी भाग ले रहे हैं।

शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने गुरुवार को शिक्षा निदेशक व अन्य संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कर ऑनलाइन टीचिंग-लर्निंग प्रोसेस की समीक्षा की। इस दौरान अधिकारियों को ये सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि ऑनलाइन टीचिंग-लनिर्ंग प्रोसेस में बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ उनके मेंटल वेल-बींग का भी ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि स्कूल बंद रहने तक ऑनलाइन विधियों के माध्यम से बच्चों की पढ़ाई जारी रहनी चाहिए ताकि बच्चों में लर्निंग गैप कम किये जा सके।

सिसोदिया ने कहा कि कोरोना के कारण बार-बार स्कूलों के बंद होने से स्टूडेंट्स की पढ़ाई का नुकसान हुआ है। हमारे लिए स्टूडेंट्स का स्वास्थ्य बेहद महत्वपूर्ण है लेकिन ये भी महत्वपूर्ण है कि बच्चों की पढ़ाई न रुके। कोरोना महामारी ने हमारे सामने नई चुनौतियां खड़ी की लेकिन दिल्ली की टीम एजुकेशन ने इन चुनौतियों का सामना करते हुए ये सुनिश्चित कर रही है कि हर बच्चे तक शिक्षा की पहुंच हो।

शिक्षा निदेशक हिमांशु गुप्ता ने बताया कि शिक्षा निदेशालय द्वारा नियमित रूप से वर्कशीट के माध्यम से ये सुनिश्चित किया जा रहा है कि सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों कि लनिर्ंग न रुके। साथ ही स्कूली स्तर पर कक्षा 9वीं से 12वीं के लिए ऑनलाइन क्लास का आयोजन भी किया जा रहा है। जिन बच्चों के पास डिजिटल डिवाइस नहीं है हर सप्ताह स्कूल द्वारा उन्हें वर्कशीट की प्रिंटेड कॉपी भी दी जा रही है। निदेशालय द्वारा नर्सरी से 10वीं तक के विद्यार्थियों को हे सप्ताह नियमित रूप से व्हाट्सएप्प के माध्यम से वर्कशीट भेजी जाती है, साथ ही शीतकालीन अवकाश के दौरान माध्यमिक कक्षाओं को प्रोजेक्ट,असाइनमेंट और एक्टिविटी शीट भी भेजी गई है।

शिक्षा निदेशालय द्वारा मूल्यांकन पर विशेष जोर दिया जा रहा है और स्टूडेंट्स के आकलन के संदर्भ में उनकी भागीदारी स्तर और सीखने के स्तर को समझने के लिए नए तरीकों का उपयोग करते हुए नियमित रूप से मूल्यांकन भी किया जा रहा है। साथ पढ़ाई को रोचक बनाने के साथ-साथ स्टूडेंट्स की बेसिक पढ़ने लिखने की क्षमता और न्यूमरसी को को बेहतर करने और बच्चों में पढ़ने का कल्चर बनाने के लिए 17 जनवरी से 100 दिन की रीडिंग कैंपेन की भी शुरूआत की गई है। इसका उद्देश्य कहानियों के माध्यम से बच्चों में क्रिटिकल थिंकिंग और रचनात्मकता बढ़ाना है। रीडिंग कैंपेन में स्टूडेंट्स को हर सप्ताह 6 वर्कशीट भेजी जायेंगी। इसमें हिंदी व अंग्रेजी भाषा के साथ-साथ न्यूमरसी को बेहतर करने के लिए गणित की वर्कशीट भी शामिल होगी।

(आईएएनएस)

 



Source link

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!